ad 1

फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे ?

अगर आप के मन में भी ये सवाल है के ऑनलाइन फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे शुरू करे? तो आप सही जगह पर है| तो जानते है फोरेक्स ट्रेडिंग सूरु करने के क्या स्टेप्स है|  हमारी राय में सबसे पहले आपको फोरेक्स मार्किट के बारे में बुनियादी बातो को सिख लेना चाहिए| इससे फायदा ये होगा के आपको नुकसान कम और प्रॉफिट ज्यादा होने के चान्सेस होंगे| अगर आप को फोरेक्स की जानकारी है तो फोरेक्स ट्रेडिंग के लिए आपको एक अच्छे ब्रोकर के साथ फॉरेक्स अकाउंट खोल सकते है । इसके लिए आप रिसर्च करे और बेस्ट फोरेक्स ब्रोकर चुने। फिर ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए, ब्रोकर वेबसाइट पर जाएं, और ऑनलाइन अकाउंट बना ले।

फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे ?

फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे ?

अगर फोरेक्स ट्रेडिंग में आप बिलकुल ही नए है तो ऐसे में; फोरेक्स ट्रेडिंग के फंडामेंटल्स जानना समझदारी की बात है | इस पोस्ट में हम लिवरेज क्या होता है ? पिप्स क्या होती है ? स्प्रेड्स क्या होता है ? और मार्जिन क्या होता है इसका क्या महत्त्व है इन जैसे बहोत ही बेसिक बातो को समझेंगे| 


सुरुवात में फोरेक्स ट्रेडिंग समझना काफी कठिन लग सकता है |  हालांकि, एक बार जब वे इस गतिविधि के बुनियादी तत्वों को पकड़ लेते हैं, तो सब कुछ आसान हो जाता है। इसी बात को ध्यान में रखकर हमने इस पोस्ट में फोरेक्स के मूल नियम और तत्‍वों को आसानी से समझाने की कोशिश की है | 


लिवरेज क्या होता है?

forex-trading-kaise-kare



तो हम उन में से प्रत्येक को समझने का प्रयास करते है | उत्तोलन - अगर सही ढंग से कहा जाए तो ये उधार के पैसे है| अब सवाल ये आता है के ये पैसे हमे कब मिलते है और कैसे काम में आते है  उत्तोलन फंड की गुणा राशि है| ये अनुपात में होती है  जैसे  1:50, 1:100, 1:200 और इसी तरह के अनुपात में मापा जाता है। 

तो, अब समझते है के ये राशि कब मिलती है और इसका ट्रेडिंग में क्या फायदा होता है|  मान लीजिये अगर आप $1,000 जमा करते हैं, और आपको ट्रेडिंग अप्प के द्वारा लिवरेज १:५० है तो आपको अपने खाते में $5,000 प्राप्त होंगे।
 
लेकिन सोचने वाली बात ये है के क्या सही में हमे ट्रेडिंग अप्प इतनी सारी राशि मुफ्त में दे देगी ? नहीं, जैसे मैने सुरु में ही बोलै था के ये उधर के पैसे है जो हमें हमारे ट्रेडिंग अप्प द्वारा ट्रेड करने के लिये  मिलते है जो हमे लौटने भी पड़ते है| 

"लिवरेज के फायदे और नुक्सान"

लिवरेज का सबसे बड़ा फायदा ये है के अगर हमारे पास राशि की कमी है तो लिवरेज की मद्त से हम फिर भी ट्रेड कर सकते है|  जिससे हमे फायदा पहले की मात्रा में ज्यादा हो सकता है | 

लिवरेज का नुक्सान ये है के, लिवरेज उधार का पैसा है जो हमे चुकाना ही पड़ेगा चाहे हमें फायदा हो या नुक्सान | ट्रेडिंग अप्प लिवरेज पर कुछ मात्रा में व्याज भी लेती है जो हमे चुकानी पड़ती है | अगर हम लिवरेज ब्रोकरेज फर्म को अदा नहीं कर पाये तो ये हमारी ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेंट में से सिक्योरिटीज को बेच कर उतनी राशि वसूल कर सकती है | 

तो क्या हमें लिवरेज लेना चाहिये ?
अगर बहोत ज्यादा जरुरत ना हो तो लिवरेज लेने से बचना चाहिए | 


विदेशी मुद्रा व्यापार में एक पिप क्या है?

forex trading kaise kare


विदेशी मुद्रा व्यापार समझने के लिए पिप एक बढ़िया इंडिकेटर है| इसकी वजह भी बहोत ही साफ़ है| हम सब ये तो जानते है के फोरेक्स ट्रेडिंग में करेंसी पेअर को ट्रेड किया जाता है| जिसमे करेंसी की कीमत बदलती रहती है| और करेंसी में होने वाले सबसे छोटे बदलाव को ही फोरेक्स ट्रेडिंग में पिप कहा जाता है| 


आम तौर पर पिप ०. ०००१ मूल्य परिवर्तन के बराबर होता है| जैसे Eur -USD पेअर के लिए अगर ट्रेडिंग रेट 1.4999 से बढ़कर 1.5001 हो जाती है, तो आपको टू-पाइप मूवमेंट मिलता है। 


 
लेकिन, हर बार पिप की कीमत 0.0001ही हो ये जरुरी नहीं | जैसा की हमने पहले ही बताया के ये स्मॉलेस्ट करेंसी वैल्यू चेंज को दिखता है| तो अगर करेंसी पेअर अलग हो तो पिप्स की कीमत भी अलग होगी| 

उदहारण के लिए USD-JPY पेअर बहोत ही जल्द बदलती है ये Eur -USD जितनी स्थिर नहीं, जैसे करेंसी की ट्रेड वैल्यू  103.34 से 103.36 तक बदलती है तो ऐसे में इन्हे 0.01 चेंज के रूप में देखा जाएगा| इसलिए इस उदहारण में 0.01 पिप होगी | 

विदेशी मुद्रा व्यापार में स्प्रेड का क्या अर्थ है?

forex trading kaise kare


विदेशी मुद्रा व्यापार में प्रसार विदेशी मुद्रा दलाल की बिक्री (पूछना) दर और खरीद (बोली) दर के बीच का अंतर है जब विनिमय या व्यापारिक मुद्राएं होती हैं।

स्प्रेड, आस्क और बिड मूल्य के बीच का अंतर है, इसलिए यह निम्नलिखित कारकों के आधार पर संकरा या चौड़ा हो सकता है: मुद्रा जोड़ी, दिन का समय व्यापार शुरू होता है, बाजार में अस्थिरता, और आर्थिक स्थिति।


विदेशी मुद्रा व्यापार में मार्जिन क्या है?

forex trading kaise kare


विदेशी मुद्रा बाजार में मार्जिन ट्रेडिंग एक या एक से अधिक मुद्राओं में पोजीशन बनाने के लिए ब्रोकर के साथ राशि का विभाजीत होना मतलब मार्जिन कहलाती है| 


मार्जिन बहोत हद तक लिवरेज से जुडी हुई है | 

आइये हम मार्जिन को एक उदहारण से समझते है; मान लीजिये के आपको EUR / USD  पेअर के $१०००० का ट्रेड करना है ; तो इसके लिए आपको पुरे $१०००० जमा करने की जरुरत नहीं है| मार्जिन की मदत से आप काम राशि से ट्रेड कर सकते है और बाकी की राशि ब्रोकर जमा करता है|  लिवरेज के साथ भी यही होता है| 


मार्जिन ट्रेडिंग क्या है ? इक्विटी मार्किट या फिर फोरेक्स मार्किट में ट्रेडिंग करते वक़्त अगर हम मार्जिन का इस्तेमाल करते है तो इसे मार्जिन ट्रेडिंग कहा जाता है | 


मार्जिन ट्रेडिंग के फायदे और नुक्सान :

मार्जिन ट्रेडिंग का यह फायदा है के आप सिमित राशि से भी ट्रेड कर सकते हो| 

मार्जिन ट्रेडिंग का नुक्सान यह है के इसमें एक निश्चित जोखिम होता है| जैसे अगर हमारा ट्रेड नुक्सान का १००% के करीब पोहचता है तो ऐसे में ब्रोकर हमें और डिपाजिट या पोजीशन क्लोज करने के लिए बोलेगा जिससे पूरा व्यापार बंद हो जाएगा और जमा खो जाएगा।



निष्कर्ष: इस पोस्ट में हमने फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे ? इस बात को बहोत ही सरल ढंग से समझने की कोशिस की है| यह पोस्ट लिखते वक़्त हम ये मानकर चल रहे है के; ये पोस्ट हर किसी के लिए लाभदायक रहे| 

हमारा यह मानना है के अगर  किसी ट्रेडर को फोरेक्स मार्किट की बेसिक बाते पता न हो तो उसे फोरेक्स ट्रेडिंग करने से बचना चाहिए | सबसे पहले चीजों चीजों को सीखना सही रहेगा | हमारा नॉलेज ही हमारी जीत की गुरंटी हो सकती है| इसलिए हमने एक्चुअल ट्रेडिंग के अलावा सिखने की ऊपर ज्यादा ध्यान दिया है | 

फोरेक्स ट्रेडिंग कैसे करे?  इस पोस्ट को और बेहतर कैसे बनाये इसके लिए आप अपने सुझाव् हमे कमेंट करे| धन्यवाद् !

0 Comments